top of page

ELASTICITY OF DEMAND AND SUPPLY


Adobe Creative Suite - Wikipedia

परिचय मांग के कानून के अनुसार, मांग और कीमत के बीच एक विपरीत संबंध है ताकि मांग वक्र में एक नकारात्मक ढलान हो। आपूर्ति के कानून के अनुसार, आपूर्ति और कीमत के बीच एक सकारात्मक संबंध है ताकि आपूर्ति वक्र में एक सकारात्मक ढलान हो। इसका मतलब है कि मांग और आपूर्ति कीमत पर प्रतिक्रिया करते हैं। मांग और आपूर्ति का कानून मूल्य में परिवर्तन के जवाब में मांग में बदलाव की दिशा को इंगित करता है। यह मूल्य में परिवर्तन के जवाब में मांग या आपूर्ति में परिवर्तन की भयावहता को व्यक्त नहीं करता है। यह जानकारी मांग की लोच के उपकरण द्वारा प्रदान की जाती है। लोच का अर्थ लोच एक स्वतंत्र चर में सापेक्ष परिवर्तन के लिए एक आश्रित चर में सापेक्ष परिवर्तन के अनुपात को संदर्भित करता है, अर्थात लोच स्वतंत्र चर में सापेक्ष परिवर्तन द्वारा विभाजित आश्रित चर में सापेक्ष परिवर्तन है। उदाहरण के लिए, मात्रा में प्रतिशत परिवर्तन का अनुपात किसी अन्य कारक जैसे मूल्य या आय में प्रतिशत परिवर्तन की मांग करता है। मांग के अनुसार लोच के अनुसार “बाजार में मांग की लोच (या जवाबदेही) बहुत अच्छी या छोटी होती है क्योंकि मांग की गई कीमत में गिरावट के लिए बहुत या बहुत बढ़ जाती है या कीमत में वृद्धि के लिए बहुत या बहुत कम हो जाती है”। मांग की लोच की अवधारणा से यह निर्धारित होता है कि इसके नियतांक में परिवर्तन की भलाई की मांग की जवाबदेही कितनी है। मांग की लोच विभिन्न वस्तुओं के मामले में भिन्न होती है। समान वस्तु के लिए, मांग की लोच व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होती है। मांग की लोच का विश्लेषण केवल मूल्य लोच तक सीमित नहीं है, मांग की आय लोच और मांग की क्रॉस लोच भी समझना महत्वपूर्ण है। मांग की लोच मुख्यतः तीन प्रकार की होती है: – मूल्य माँग की लोच – क्रॉस मूल्य माँग की लोच – माँग की लोच पाठ 2 onBasic तत्वों की मांग और आपूर्ति 39 मांग की कीमत लोच की मांग की कीमत लोच एक वस्तु की कीमत में परिवर्तन की मांग की जवाबदेही को दर्शाता है। यह ध्यान दिया जा सकता है कि मूल्य और मांग के बीच नकारात्मक संबंध के कारण मांग की कीमत लोच का नकारात्मक संकेत है। मूल्य लोच की गणना करने का सूत्र है: Ed = मात्रा में परिवर्तन की मांग की कीमत में बदलाव। मूल्य में परिवर्तन की मांग की प्रतिक्रिया के परिमाण के आधार पर मांग की कीमत में पांच प्रकार के लोच होते हैं: – पूरी तरह से लोचदार मांग – पूरी तरह से अप्रभावी मांग – अपेक्षाकृत लोचदार मांग – सापेक्ष रूप से लोचदार मांग – एकात्मक लोचदार मांग पूरी तरह से लोचदार मांग: मांग पूरी तरह से लोचदार होने की बात कही जाती है जब कीमत में बहुत ही महत्वहीन परिवर्तन की मांग की गई मात्रा में अनंत परिवर्तन हो जाता है। मूल्य में एक बहुत छोटी गिरावट के कारण असीम रूप से वृद्धि की मांग होती है। इसी तरह मूल्य में बहुत ही नगण्य वृद्धि शून्य करने की मांग को कम करती है। यह मामला सैद्धांतिक है जो वास्तविक जीवन में नहीं पाया जा सकता है। ऐसी स्थिति में मांग वक्र X- अक्ष के समानांतर है। संख्यात्मक रूप से, मांग की लोच को अनंत के बराबर कहा जाता है। (एड = The) बिल्कुल अयोग्य मांग: किसी वस्तु की मांग की गई मात्रा में कोई परिवर्तन नहीं होने पर मांग पूरी तरह से अयोग्य होने की बात कही जाती है। इस तरह के मामले में मांग की गई कीमत में बदलाव की परवाह किए बिना निरंतर बनी हुई है। मांग की गई राशि मूल्य में परिवर्तन के लिए पूरी तरह से अनुत्तरदायी है। ऐसी स्थिति में मांग वक्र Y- अक्ष के समानांतर है। संख्यात्मक रूप से, मांग की लोच शून्य के बराबर बताई जाती है। (एड = 0) अपेक्षाकृत लोचदार मांग: जब कीमत में एक छोटा परिवर्तन मांग की मात्रा में एक बड़ा परिवर्तन का कारण बनता है, तो मांग अपेक्षाकृत अधिक लोचदार होती है। ऐसे मामले में कमोडिटी की कीमत में एक आनुपातिक परिवर्तन की मांग की मात्रा में आनुपातिक परिवर्तन से अधिक का कारण बनता है। उदाहरण के लिए: यदि मूल्य में 10% से परिवर्तन होता है, तो कमोडिटी में 10% से अधिक की मात्रा की मांग होती है। ऐसी स्थिति में मांग वक्र अपेक्षाकृत चापलूसी है। संख्यात्मक रूप से, मांग की लोच को 1. से अधिक कहा जाता है (एड> 1) अपेक्षाकृत अयोग्य मांग: यह एक ऐसी स्थिति है जहां कीमत में अधिक परिवर्तन से मांग की गई मात्रा में एक छोटा परिवर्तन होता है। डिमांड की मात्रा में आनुपातिक परिवर्तन की तुलना में कमोडिटी की कीमत में आनुपातिक परिवर्तन से कम होने के कारण मांग को अपेक्षाकृत अयोग्य बताया जाता है। उदाहरण के लिए: यदि मूल्य में 20% की मात्रा में परिवर्तन होता है, तो 20% से कम परिवर्तन की मांग करता है। ऐसे मामले में मांग वक्र अपेक्षाकृत कम है। संख्यात्मक रूप से, मांग की लोच को 1. से कम कहा जाता है (एड <1) एकैटिक इलास्टिक डिमांड: मांग को एकात्मक लोचदार कहा जाता है जब किसी वस्तु की मांग की गई मात्रा के बिलकुल उसी प्रतिशत परिवर्तन में मूल्य परिणाम में परिवर्तन होता है। ऐसी स्थिति में कीमत और मांग की गई मात्रा दोनों में प्रतिशत परिवर्तन समान है। उदाहरण के लिए: यदि कीमत 25% गिरती है, तो मांग की गई मात्रा भी 25% बढ़ जाती है। यह एक आयताकार हाइपरबोला का आकार लेता है। संख्यात्मक रूप से, मांग की लोच को 1. (एड = 1) के बराबर कहा जाता है।


Recent Posts

See All

PLAYLIST SBIL/SBEC ONE SHOT REVISION

🔥PLAYLIST 😍 SBIL/SBEC ONE SHOT REVISION JUNE & DEC 24 CS Amit Vohra Sir (UNACADEMY) Part A-60 Marks Part B-40 Marks 📍Marathon 1 https://youtube.com/live/12SM6Gt-QlU?feature=share 📍Marathon 2 https

Comments


bottom of page